उत्तरप्रदेश में बढ़ेंगी कॉलेजों में 10 फीसदी सीटें…एडमिशन होगा आसान

उत्तरप्रदेश के कॉलेजों में एडमिशन से वंचित छात्रों के लिए अच्छी खबर है। मीडिया में आ रही खबरों में बताया जा रहा है कि उत्तरप्रदेश के 17 महाविद्यालयों में 10 फीसदी सीटें बढ़ाए जाने का फैसला लिया गया है। कहा जा रहा है कि बृहस्पतिवार को इसका शासनादेश जारी हो गया। आदेश जारी होते ही छात्र-छात्राओं में हर्ष है। वहीं सभी इस फैसले का स्वागत कर रहे हैं। निश्चित ही इससे छात्र-छात्राओं को पढ़ाई कर अपने प्रदेश से दूर जाने की नौबत नहीं आएगी और वे अपने प्रदेश में रहकर ही उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे।
इसमें साफ कहा गया है कि यदि किसी महाविद्यालय में 10 फीसदी से अधिक सीटों की वृद्धि की आवश्यकता है तो निदेशक एवं उच्च शिक्षा विभाग कुलपति से सामंजस्य कर इसे 20 फीसदी तक कर सकते हैं। जिन महाविद्यालयों में सीट बढ़ाई गई हैं, उसमें अधिकतर महाविद्यालय कुमाऊं मंडल के हैं। 

प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा आनंद बर्द्धन की ओर से जारी शासनादेश के मुताबिक, चमोली जनपद के राजकीय महाविद्यालय गोपेश्वर, राजकीय महाविद्यालय बागेश्वर एवं राजकीय महाविद्यालय गुरुड, चंपावत के महाविद्यालय चंपावत एवं महाविद्यालय लोहाघाट, महाविद्यालय टनकपुर, महाविद्यालय पाटी, ऊधमसिंह नगर के काशीपुर, रुद्रपुर, महाविद्यालय खटीमा, महाविद्यालय बाजपुर, नैनीताल जनपद के राजकीय महाविद्यालय हल्द्वानी, रामनगर, पिथौरागढ़ के राजकीय महाविद्यालय पिथौरागढ़ एवं राजकीय महाविद्यालय गंगोलीहाट, हरिद्वार के मंगलौर, देहरादून जनपद का ऋषिकेश महाविद्यालय शामिल हैं।

वैसे ये वाकई अच्छी खबर है कि जहां छात्रों की संख्या अधिक हो और एडमिशन के लिए सीटें निर्धारित हो तो कई प्रवेश से वंचित रह जाते हैं। इसलिए निश्चित ही कॉलेज में सीटें बढऩे का सीधा असर छात्रों के प्रवेश पर पड़ेगा। और जो छात्र सीटें निर्धारित होने से प्रवेश से वंचित रह जाते हैं, उन्हें आसानी से प्रवेश मिल सकेगा। इससे प्रदेश के होनहार छात्र दूसरे जगह पढ़ाई करने से भी रूकेंगे और प्रदेश में कॉलेजों में पढ़ाई का स्तर पर भी सुधरेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *