करें प्लंबर और बावरची का कोर्स…पढ़ाई के साथ-साथ होगी खूब कमाई…

नए जमाने के एजुकेशन कोर्सेस के बारे में लोगों को बहुत कुछ पता है। खासकर, आईटी के क्षेत्र में नौकरियों ने जो रफ्तार पकड़ी है, उसके तो क्या कहने। वहीं जिस तेजी से बड़ी नौकरियां ने रफ्तार पकड़ी है, उतनी ही तेजी से छोटे-छोटे कामों के लिए दक्ष लोगों को ढूंढना टेढ़ी खीर बना हुआ है। यानी ये बहुत मुश्किल से मिलते हैं। इनमें कुछ जॉब ऐसे होते हैं, जिनकी जब जरूरत होती है, प्राय: वे मिलते नहीं हैं। इसी तरह का जॉब है प्लंबर और बावरची का। लेकिन क्या आपको पता है कि अब प्लंबर और बावरची जैसे जॉब के लिए भी प्रोफेशनल कोर्स करवाए जा रहे हैं। नहीं ना…तो चलते हैं इस कोर्स के बारे में और जानकारी के लिए।
हरियाणा में देश की पहली यूनिवर्सिटी खुली है, जो प्लंबर, वेल्डर, बावर्ची, इलेक्ट्रिशियन, कढ़ाई-बुनाई जैसे स्किल कोर्स बच्चों के लिए लेकर आई है।

रुचि है तो ले सकते हैं एडमिशन

यदि आपकी रुचि भी प्लंबर, वेल्डर, बावर्ची, इलेक्ट्रिशियन, कढ़ाई-बुनाई जैसे कामों में है तो आप बिल्कुल इस यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले सकते हैं। ये यूनिवर्सिटी है दिल्ली से सटे गुरुग्राम की श्री विश्वकर्मा स्किल यूनिवर्सिंटी। ये देश की पहली ऐसी यूनिवर्सिटी है, जो प्लंबर से लेकर इलेक्ट्रिशियन के हुनर को पेशे में बदलने वाले स्किल्ड प्रोफेशनल्स तैयार कर रही है।

9वीं के बाद 118 से ज्यादा डिग्री कोर्स मिलेगा एडमिशन

आपको बता दें कि श्री विश्वकर्मा स्किल यूनिवर्सिटी में  9वीं कक्षा के बाद छात्र अपने हुनर और रुचि के मुताबिक 118 से ज्यादा डिग्री कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। जो छात्र किसान, प्लंबर, मेकेनिक, बावरची, कढ़ाई, जैसे हुनर को नई पहचान देना चाहते हैं वे आसानी से 9वीं या 12वीं के बाद एडमिशन ले सकते हैं। 

ऐसा है सिलबेस की पढ़ाई करते-करते कमाई भी कर सकते हैं

श्री विश्वकर्मा स्किल यूनिवर्सिंटी में सिलेबस ऐसा तैयार किया गया है, कि छात्र पढ़ते-पढ़ते ही कमाई भी कर सकते हैं। जिससे वे सेल्फ इम्प्लॉयड तो बन ही रहे हैं, पारिवारिक दायित्व का भी भलीभांति निर्वाह कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *