फन और क्रिएटिविटी की गारंटी है एडवरटाइजिंग फील्ड में

यदि हम दो दशक पहले मुड़कर देखें तो किसी भी वस्तु या योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। टीवी या समाचार पत्र की पहुंच हर किसी तक नहीं थी, लिहाजा योजनाओं और किसी वस्तु के प्रचार-प्रसार के लिए रिक्शा या फिर नुक्कड़ नाटक कराया जाता था, लेकिन वो भी उतना सफल नहीं हो पाता है, क्योंकि ये कुछ विशेष क्षेत्रों तक ही सिमट कर रह जाता था। लिहाजा, एडवरटाइजिंग यानी विज्ञापन फील्ड में जॉब के अवसर भी शून्य के बराबर थे। लेकिन जैसे-जैसे इलेक्ट्रॉनिक मीडया और प्रिंट मीडिया के साथ ही सोशल मीडिया की रफ्तार में तेजी आई, वैसे ही  एडवरटाइजिंग फील्ड में भी रोजगार के पर्याप्त अवसर मिलने शुरू हो गए हैं। तो क्यों ना बदलते समय को देखते हुए  एडवरटाइजिंग में ही कैरियर की संभावनाएं तलाशें….

योग्यता

एडवरटाइजिंग कोर्स ज्वाइन करने के लिए आपके पास 12वीं या स्नातक की डिग्री होना आवश्यक है। आजकल कई संस्थाएं एडवरटाइजिंग के कोर्स कराती हैं, जिसमें आप एडमिशन लेकर इसकी पढ़ाई कर सकते हैं। एडवरटाइजिंग में अपना करियर शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप किसी एड एजेंसी में जॉब ज्वाइन कर लें।

फन-क्रिएटिविटी की गारंटी देता है एडवरटाइजिंग फील्ड

वैसे देखा जाए तो एडवरटाइजिंग फील्ड फन और क्रिएटिविटी की पूरी गारंटी देता है। आजकल प्राय: बड़ी-बड़ी कंपनियां ऐसे युवाओं को जॉब देना पसंद करती है, जिसमें क्रिएटिविटी के साथ-साथ फन भी देखा जाए। क्योंकि ये विज्ञापन का काम है, जब तक आपकी रचनात्मकता उभरकर सामने नहीं आएगी, तब तक लोगों को आकर्षित करने वाला कोई विज्ञापन बन ही सकता है।

टीम वर्क के साथ लैंग्वेज में हो महारत

किसी भी कंपनी के लिए एडवाइजिंग करना कोई आसान काम भी नहीं है। इसलिए आपको टीम वर्क के साथ करने के साथ ही लैंग्वेज भी महारत हासिल होना चाहिए। इसके अलावा काम के दबाव के साथ-साथ डेडलाइन को भी पूरा करने की क्षमता होना जरूरी है। 

इन संस्थानों से कर सकते हैं पढ़ाई

एडवरटाइजिंग में प्रोफेशेनल कोर्स कराने वाले बड़े संस्थानों में

  • भारतीय विद्या भवन, मुंबई कलकत्ता, चेन्नई, दिल्ली
  • सेंटर फॉर मास मीडिया, वाईएमसीए, नई दिल्ली
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन्स (आईआईएमसी), नई दिल्ली,
  • केसी कॉलेज ऑफ मैनेजमैंट, मुंबई,
  • मुद्रा इंस्टिट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस, अहमदाबाद (एमआईसीए),
  • नरसी मोंजी इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमैंट स्ट्डीज़, मुंबई,
  • सेंट जेवियर्स कॉलेज ऑफ कम्युनिकेशंस, मुंबई

आदि शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *