जीव-जंतुओं और जानवरों से है प्यार तो बनाए इसे सफलता का हथियार…बने जीव विज्ञानी

यदि आपको भी जीव-जंतुओं जानवरों से प्यार है और आप इनके साथ ज्यादा-ज्यादा वक्त गुजारने के साथ ही बेहतर रोजगार पाना चाहते हैं, तो जीव विज्ञानी बनकर अपने कैरियर को संवार सकते हैं। इस नौकरी में आपको दोहरा फायदा होगा, पहले तो हर दिन आप नए उत्साह के साथ अपने मूक प्राणियों की देखरेख कर सकेंगे वहीं अच्छा-खासा वेतन मिलने से टेंशन भी नहीं होगा। 

वैसे जीव विज्ञानी बनने के लिए आपका मुख्य फोकस साइंस सब्जेक्ट पर ही होना जरूरी है। इसके अलावा आपको जीव विज्ञानी या जूलॉजिस्ट बनने के लिए जूलॉजी या संबंधित विषयों में मास्टर डिग्री लेने जरूरी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसमें उन्हीं छात्रों को प्रवेश मिलता है, जो बैचलर डिग्री में बायोलॉजी पढ़ चुके हों। इसके साथ ही ग्रेजुएशन में इंवायरन्मेंटल साइंस, नेचुरल साइंस और बायोलॉजी के साथ जूलॉजी विषय भी होना चाहिए।.

अब काम का दायरा भी जान लें

वैसे जूलॉजिस्ट का मुख्य काम जीव-जंतुओं और जानवरों के हाव-भाव, उनके रहन-सहन, खान-पान के तरीकों का अध्ययन करना होता है। इसके अलावा उनकी विशेषताओं और आदतों पर भी रिपोर्ट तैयार करने का काम जूलॉजिस्ट करते हैं।  इसके साथ ही विलुप्त होते प्राणियों के बचाव और सुरक्षा के लिए भी मुख्यत: जूलॉजिस्ट ही प्रयास करते हैं।

यहां मिलेगा रोजगार

जूलॉजिस्ट बनने के बाद आपको इंवायरन्मेंटल कंसल्टेंट और कंजर्वेशनिस्ट, जर्नलिस्ट, बायोलॉजिकल लैबोरेट्री टेक्निशियन या जू कीपर, शिक्षक और शोधार्थी और- वाइल्डलाइफ एजुकेटर और रीहैब्लिटेटर के क्षेत्र में रोजगार के बेहतर अवसर हैं।

सरकारी और प्राइवेट दोनों ही संस्थानों खासी मांग

वैसे जूलॉजिस्टों के लिए सरकारी और प्राइवेट दोनों ही संस्थानों में नौकरी के भरपूर अवसर उपलब्ध हैं। सरकारी एजेंसियों में वाइल्डलाइफ मैनेजमेंट, कंजर्वेशन या एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट में काम कर सकते हैं। वहीं, दूसरी ओर प्राइवेट सेक्टर में फार्मास्यूटिकल कंपनी या बायोलॉजिकल सप्लाइ हाउसेज में काम कर सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *