सीखने की कोई उम्र नहीं होती…ये साबित कर दिया सोहन सिंह ने … 83 साल की उम्र में ली मास्टर्स की डिग्री…

कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो अपना समय गुजर जाने के बाद समय को कोसते रहते हैं, कि हम ये नहीं कर पाए, हम वो नहीं कर पाए, लेकिन इनमें भी कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो अपनी जिद और जुनून के चलते कुछ कर दिखाने का हौसला लिए होते हैं और वक्त के उस पड़ाव में भी कुछ हासिल कर जाते हैं, जहां लोग अपने आपको बेबस और लाचार पाते हुए कुछ नहीं कर पाते हैं।


जी हां, हम बात कर रहे हैं, ऐसे ही एक शख्स के बारे में, जिसने तमाम मुसीबतों को सामना करते 83 साल की उम्र में मास्टर्स डिग्री हासिल करने में सफलता हासिल की है। ये शख्स हैं- सोहन सिंह गिल। 
हाल ही में लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में आयोजित वार्षिक दीक्षांत समारोह में उन्हें मास्टर की डिग्री से सम्मानित किया गया। वह 61 साल से मास्टर की पढ़ाई पूरी करना चाहते थे।


सोहन सिंह गिल का जन्म 15 अगस्त, 1936 को जिला होशियारपुर के गांव दात्ता कोट फतूही में हुआ था।  उन्होंने प्राइमरी स्कूल पंडोरी गंगा सिंह में पहली से तीसरी कक्षा, मिडिल स्कूल खैरड अच्छरवाल में 6वीं उर्दू की पढ़ाई की। खालसा हाईस्कूल माहलपुर में 1953 में दसवीं कक्षा पास की। जिसके बाद श्री गुरु गोबिंद सिंह खालसा स्कूल माहिलपुर में चार वर्षों की 1957 में बीए पास की।  उसके बाद 1957-58 में बैचलर टीचिंग खालसा कॉलेज अमृतसर से की। उस समय बीएड नहीं हुआ करता था।


लेक्चरर रहे पंजाब के जिला होशियारपुर के सोहन सिंह गिल ने 83 साल की उम्र में एमए इंग्लिश की डिग्री हासिल कर इसी जज्बे का परिचय दिया है। वह पूर्वी अफ्रीकी केन्या में शिक्षा के क्षेत्र में 33 साल तक सेवाएं देकर देश लौटे और फिर यहां की लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी से पढ़ाई करके अपनी 61 साल पुरानी इच्छा पूरी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *